Pitra_Shradh ये 5 गलतियां वरना पितृ हो जाएंगे नाराज - Bhakti AMR

Pitra_Shradh ये 5 गलतियां वरना पितृ हो जाएंगे नाराज

pitra_shradh

Pitra_Shradh ये 5 गलतियां वरना पितृ हो जाएंगे नाराज

पित्र पक्ष क्या है

Pitra_Shradh एक हिन्दू धार्मिक परंपरा है जो पितृदेवता या पितरों की पूजा पर आधारित है। यह परंपरा हिन्दू पंचांग में भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष के प्रतिपदा से शुरू होकर अश्वयुज मास के शुक्ल पक्ष के द्वादशी तिथि तक चलती है। इसका समापन श्राद्ध पूजा के साथ होता है, जिसमें पितृदेवताओं की श्रद्धांजलि दी जाती है।

पितृ पक्ष में लोग अपने पूर्वजों और पितरों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध करते हैं। इसमें पितृ तर्पण, श्राद्ध का आयोजन, और भूत-प्रेत तर्पण शामिल हो सकता है। इस पर्व का मुख्य उद्देश्य पितरों के श्राद्ध में अविलम्ब रूप से भागीदारी करना है ताकि उनकी आत्मा को शांति मिले और वे पितृलोक में सुखी रहें।

पितृ पक्ष का आयोजन गृहस्थ व्यक्तियों के लिए महत्वपूर्ण होता है और वे इसे श्रद्धा भाव से मनाते हैं। इस दौरान लोग अपने पूर्वजों की स्मृति में श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं और उनकी आत्मा के शांति के लिए प्रार्थना करते हैं।

pitra_shradh
pitra_shradh

गलती नंबर एक:

पितृ पक्ष के महत्व को नजरअंदाज करना। यह अवधि हमारे दिवंगत पूर्वजों को सम्मान देने और याद करने के लिए समर्पित है। उनके महत्व को नजरअंदाज करने से उनकी नाराजगी हो सकती है।

गलती नंबर दो:

तर्पण अनुष्ठान न कर पाना. तर्पण पूर्वजों को जल अर्पित करने, उनका आशीर्वाद लेने और उनकी उपस्थिति को स्वीकार करने का कार्य है। अपने पूर्वजों के प्रति सम्मान और कृतज्ञता दिखाने के लिए यह अनुष्ठान करना महत्वपूर्ण है।

गलती नंबर तीन:

मांसाहारी भोजन के सेवन में संलग्न होना। पितृ पक्ष के दौरान मांसाहारी भोजन से परहेज करने की सलाह दी जाती है। ऐसा माना जाता है कि इससे हमारे पूर्वजों की आत्माएं परेशान होती हैं और उनकी शांतिपूर्ण यात्रा प्रभावित होती है।

गलती नंबर चार:

दान और अच्छे कार्यों की उपेक्षा करना। दान देना, धर्मार्थ कार्य करना और निस्वार्थ सेवा करना हमारे पूर्वजों की आत्माओं को ऊपर उठाने में मदद कर सकता है। इस पहलू की उपेक्षा करके, हम उन्हें सांत्वना और आशीर्वाद देने का अवसर चूक जाते हैं।

गलती नंबर पांच:

माफ़ी मांगने में लापरवाही करना. किसी भी गलती या गलतफहमी के लिए अपने पूर्वजों से क्षमा मांगना महत्वपूर्ण है। मेल-मिलाप का यह कार्य शांति ला सकता है और हमारे दिवंगत प्रियजनों के साथ सौहार्दपूर्ण बंधन सुनिश्चित कर सकता है।

याद रखें, पितृ पक्ष की इस शुभ अवधि में, अपने पूर्वजों के साथ मजबूत संबंध बनाए रखने और उनका आशीर्वाद पाने के लिए इन गलतियों से बचना आवश्यक है।

pitra shradh
pitra shradh

पित्र पक्ष में क्या करना चाहिए Pitra_Shradh

पितृ पक्ष में विभिन्न क्रियाएं और आचरणें की जाती हैं जो पितरों की पूजा और उनकी आत्मा के शांति के लिए की जाती हैं। यहां कुछ मुख्य उपाय हैं जो लोग पितृ पक्ष में कर सकते हैं:

श्राद्ध का आयोजन:

श्राद्ध पूजा का आयोजन करें और पितृदेवताओं की अर्घ्य, आचमन, तिल-तर्पण, पितृतर्पण, और प्रसाद अर्पित करें।

पितृ तर्पण:

पितृ तर्पण करना महत्वपूर्ण है, जिसमें पितृदेवताओं के लिए जल, तिल, बार्ले, और कुछ और सामग्रीयाँ उपयोग होती हैं।

पितृदेव की पूजा:

पितृदेव की मूर्ति या तस्वीर की पूजा करें और उन्हें सादुपचार से पूजें।

श्राद्ध संस्कार:

अपने पूर्वजों के श्राद्ध संस्कार में भाग लें और उनके नाम से दान और पुण्य कार्यों का आयोजन करें।

पुण्य कार्यों में भागीदारी:

पितृ पक्ष में दान और कर्म के माध्यम से पितरों की आत्मा के लिए पुण्य कार्यों में भागीदारी करें।

ब्राह्मण भोज:

ब्राह्मणों को भोजन कराना और उन्हें दान देना भी पितृ पक्ष में किया जाता है।

पितृ तालाब में दान:

आप पितृ तालाब में दान कर सकते हैं जो पितरों के लिए श्राद्ध के समय बड़े फलकारी होते हैं।

श्राद्ध के बाद कर्मचारी को भोजन:

श्राद्ध के बाद किये गए कर्मों को यदि कोई ब्राह्मण खाए तो उसे भी भोजन देना चाहिए।

ये सभी उपाय श्राद्ध के दौरान किए जा सकते हैं, लेकिन इसमें भक्ति और श्रद्धा का महत्वपूर्ण भूमिका है।

pitra shradh
pitra shradh

पित्र पक्ष में क्या नहीं करना चाहिए Pitra_Shradh

हिंदू धर्म की मान्यताओं के मुताबिक जो लोग अपने पूर्वजों का श्राद्ध या फिर तर्पण करते हैं उन्हें पितृ पक्ष में 15 दिनों तक बाल नहीं कटवाने चाहिए। ऐसा करने से पितृ देव नाराज हो सकते हैं वही ऐसा भी कहा जाता हैं कि पितृ पक्ष में पूर्वज किसी भी वेष में आपके घर भिक्षा लेने आ सकते हैं इसलिए दरवाजे पर कोई भी भिखारी आए तो उसे खाली हाथ नहीं लौटाना चाहिए।

इन दिनों किया गया दान पूर्वजों को तृपित देता हैं। वही कहा जाता हैं कि पितृ पक्ष के दिन भारी होते हैं ऐसे में कोई भी नया काम या फिर नई चीजों को नहीं खरीदना चाहिए। जैसे कपड़े, वाहन, मकान आदि। वही कहा जाता हैं कि पितृ पक्ष में पीतल या तांबे के बर्तन से ही पूजा करनी चाहिए, लोहे के बर्तनों को अशुभ माना जाता हैं।

हिंदू धर्म की मान्यताओं के मुताबिक जो लोग अपने पूर्वजों का श्राद्ध या फिर तर्पण करते हैं उन्हें पितृ पक्ष में 15 दिनों तक बाल नहीं कटवाने चाहिए। ऐसा करने से पितृ देव नाराज हो जाते हैं वही ऐसा भी कहा जाता हैं कि पितृ पक्ष में पूर्वज किसी भी वेष में आपके घर भिक्षा लेने आ सकते हैं इसलिए दरवाजे पर कोई भी भिखारी आए तो उसे खाली हाथ नहीं लौटाना चाहिए। इन दिनों किया गया दान पूर्वजों को तृपित देता हैं वही कहा जाता हैं कि पितृ पक्ष के दिन भारी होते हैं

पितृ पक्ष में शारीरिक संबंध कब बनाना चाहिए Pitra_Shradh

पितृ पक्ष में शारीरिक संबंध बनाना नष्टाचार (अशुभ कार्य) माना जाता है। इस अवधि में शारीरिक संबंध बनाना उचित नहीं होता है क्योंकि इस समय में पितृदेवताओं की पूजा और श्राद्ध कार्यों को महत्वपूर्ण माना जाता है और इसमें अन्य कार्यों में बाधा डाली जाती है।

शास्त्रों और धार्मिक ग्रंथों में इस समय में संबंध बनाने की अनुशासनीयता पर विशेष ध्यान दिया गया है। इस दौरान पितृदेवताओं की पूजा और उनकी श्रद्धांजलि में विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए और शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए।

धर्मशास्त्रों ने इस समय में श्राद्ध कर्मों को प्राथमिकता देने का सुझाव दिया है और इस सामग्री में संबंध न बनाने का सुझाव दिया है। यह धार्मिक अनुष्ठान में सावधानी और श्रद्धांजलि के साथ मिलकर किया जाना चाहिए।

pitra_shradh
pitra_shradh

संबंध बनाने का सही समय क्या है Pitra_Shradh

विभिन्न समाजों और सांस्कृतिक परंपराओं में, संबंध बनाने का सही समय का मायना अलग हो सकता है। हिन्दू धर्म में, विवाह और संबंध बनाने का सही समय का निर्धारण कई कारकों पर निर्भर करता है, जैसे कि ज्योतिष, परंपरा, आर्थिक स्थिति, और व्यक्तिगत परिस्थितियाँ।

पितृ पक्ष में मृत्यु शुभ या अशुभ Pitra_Shradh

पितृ पक्ष में प्राण त्यागने वाले लोगों को स्वर्ग में स्थान मिलता है. मान्यता के अनुसार, पितृ पक्ष के दिनों में भले ही कोई शुभ कार्य नहीं होते हैं, लेकिन ये दिन अशुभ नहीं हैं. इस समय में प्राण त्यागने वाले परलोक जाते हैं, क्योंकि इस दौरान स्वर्ग के द्वार खुले होते हैं.

pitra_shradh
pitra_shradh

क्या पितृ पक्ष में मंदिर में पूजा करनी चाहिए Pitra_Shradh

हाँ, पितृ पक्ष में मंदिर में पूजा करना सामान्यतः सुस्तिति में आने वाला कार्य है और यह धार्मिक आदर्शों के अनुसार उचित माना जाता है। पितृ पक्ष में पितृदेवताओं और पूर्वजों की आत्मा को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए पूजा का आयोजन करना महत्वपूर्ण है।

यहां कुछ परंपरागत पूजा कार्यों की एक सामान्य सूची है जो पितृ पक्ष में मंदिर में किए जा सकते हैं:

पितृ तर्पण: पितृ तर्पण एक महत्वपूर्ण पूजा रितुअल है जिसमें पितृदेवताओं के लिए जल, तिल, बार्ले, और कुछ और सामग्रीयाँ उपयोग होती हैं।

पितृदेव पूजा:

पितृदेवता की मूर्ति या तस्वीर की पूजा करना और उन्हें सादुपचार से पूजन करना।

पूर्वजों के नाम पर दान:

पितृ पक्ष में पूर्वजों के नाम पर दान करना, जैसे कि अन्नदान, वस्त्रदान, और धन दान करना।

ब्राह्मण भोज:

ब्राह्मणों को भोजन कराना और उन्हें धन दान करना।

आरती और भजन:

पितृ पक्ष में मंदिर में आरती और भजन गाना भी एक अच्छा तरीका है।

पितृ पक्ष के दिन सात्विक आहार का ही सेवन करना चाहिए. इस दिन प्याज, लहसून, मांस और मदिरा खाने से परहेज करना चाहिए. साथ ही इस दिन घर में भी मांसाहारी भोजन नहीं बनाना चाहिए. क्योंकि इस दिन पितरों के नाम का श्राद्ध और तर्पण किया जाता है.

पितृपक्ष के दौरान श्राद्धकर्म करने वाले व्यक्ति को पूरे 15 दिनों तक बाल और नाखून कटवाने से परहेज करना चाहिए. हालांकि इस दौरान अगर पूर्वजों की श्राद्ध की तिथि पड़ती है तो पिंडदान करने वाला बाल और नाखून कटवा सकता है.

पितृ पक्ष के दौरान पूर्वज पक्षी के रूप में धरती पर पधारते हैं. ऐसे में उन्हें किसी भी प्रकार से सताना नहीं चाहिए, क्योंकि मान्यता है कि ऐसा करने से पूर्वज नाराज हो जाते हैं. ऐसे में पितृ पक्ष के दौरान पशु-पक्षियों की सेवा करनी चाहिए.

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क कर सकते है 

Call & Whats app +91 8950680571

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Right Menu Icon